Impact of Fussy Eating on Kid Health, Picky Eating Impact

जानिए, खाने में नखरे करने वाले बच्चों की सेहत पर इसका असर

अगर आपका बच्चा सिर्फ कुछ चुनिंदा चीज़ें ही खाता है तो संभावना है कि वह कुछ सीमित आहार ही खा रहा होगा। आप परेशान होंगे क्योंकि इससे बच्चे की सेहत खराब हो सकती है। चुनिंदा खाना खाने का आपके बच्चे पर क्या असर होता है और उनके बढ़ने के लिए पोषक तत्व कितने ज़रूरी हैं इसके बारे में जानने के लिए और पढ़ें:

सिर्फ कुछ चुनिंदा चीज़ें खाने का असर:

यहाँ, चुनिंदा खाना खाने से होने वाले कुछ प्रभावों के बारे में बताया गया है:

  • एक खाना जो पहले से असंतुलित है, उसमें भी मीन-मेख निकाल कर खाने से भूख कम होने, जो कि सूक्ष्म पोषक तत्वों की कमी का ही दूसरा नाम है, जैसी समस्या हो जाती है। यहाँ तक कि यह समस्या सेहतमंद बच्चों में भी हो सकती है।
  • इन पोषक तत्वों की कमी के कारण बच्चे दिमागी और शारीरिक रूप से पूरी तरह विकसित नहीं हो पाते हैं। इनकी इम्यूनिटी (रोग प्रतिरोधक शक्ति) कमज़ोर हो जाती है और इन्हें कभी भी इन्फेक्शन होने का खतरा बना रहता है।
  • अगर बच्चा सिर्फ ऊर्जा से भरपूर खाना (एनर्जी डेन्स फ़ूड) खाता है, जैसे कि मिठाई, तो बड़े होने पर उन्हें मोटे होने की समस्या हो सकती है।

अगर आपके बच्चे में कुछ ज़रूरी पोषक तत्वों की कमी है तो इसके गंभीर परिणाम हो सकते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि हर पोषक तत्व आपके बच्चे के लिए ज़रूरी है। ये उसके शरीर के लिए अलग-अलग काम करते हैं। इनमें  से कुछ नीचे दिए गए हैं:

  • ज़िंक: यह सामान्य वृद्धि और विकास में मदद करता है और इम्यूनिटी को मजबूत करता है।
  • विटामिन ए: विटामिन ए आपकी इम्यूनिटी को बढ़ाता है और कम रौशनी में भी तेज़ नज़र बनाए रखने में मदद करता है।
  • आयरन (लौह): आयरन (लौह) की कमी से एनीमिया (खून की कमी), इम्यूनिटी में कमी और थकान जैसी समस्या होती है जिसके कारण दिमागी विकास (कॉग्निटिव डेवलपमेंट) धीमा हो जाता है और जितना बच्चे का विकास होना चाहिए (डेवलपमेंटल माइलस्टोन) वह नहीं हो पाता है।
  • विटामिन बी कॉम्प्लेक्स: यह विटामिन सामान्य न्यूरोलॉजिकल और सेहतमंद त्वचा के लिए बेहद ज़रूरी है।
  • विटामिन सी: यह आयरन (लौह) के अवशोषण में मदद करता है और आपके मसूड़ों को स्वस्थ रखता है।
  • विटामिन डी: विटामिन डी स्वस्थ हड्डियों और दांतों के लिए बहुत ज़रूरी है। इस विटामिन की कमी से आपके बच्चे के विकास और दांत निकलने में देरी हो सकती है।
  • कैल्शियम: यह दांतों और हड्डियों को मजबूत करता है, नर्वस सिस्टम (तंत्रिका तंत्र) और मांसपेशियों की क्रिया को बढ़ाता है।

ये सभी पोषक तत्व जो आपके बच्चे के शरीर के कामकाज के लिए ज़रूरी हैं, केवल संतुलित खाने से ही मिलते हैं। ध्यान रखें  कि आपके बच्चे के खाने में सभी फ़ूड ग्रुप्स जैसे अनाज, अंडा, दूध और दूध से बनी चीज़ें, मांस, मछली और बहुत सारे फल और सब्जियां शामिल हों। चुन कर खाना खाने वाले बच्चों को इन सभी खाने की चीज़ों के साथ फैट्स (वसा) देना न भूलें। फैट्स आपके बच्चे के शरीर में सूक्ष्म पोषक तत्वों के अवशोषण में मदद करते हैं।अगर आप अपने बच्चे को ये पोषक तत्व (न्यूट्रिएंट्स) नहीं दे पाते हैं तो आप फोर्टीफाइड खाने का इस्तेमाल कर सकते हैं जो आपके बच्चे  को ज़रूरी पोषक तत्व सही मात्रा में देगा।

इसीलिए, अगर आपका बच्चा चुन कर खाना खाने वाला या उसमें बहुत मीन-मेख निकालने वाला है, तब भी उसकी खुराक (डाइट) में अलग अलग तरीके से सेहतमंद खाना शामिल करना न भूलें। इससे आपके बच्चे का सेहतमंद विकास होगा।