5 things to do when your baby is rejecting new food

बच्चे को नई चीज़ खिलाने के 5 तरीके

क्या आपका बच्चा कोई भी नई चीज़ खाते समय मुंह बनाता है? क्या आपके मन में यह डर रहता है कि आप जब भी उसे कुछ खिलाने की कोशिश करेंगे तो वह उन्हें खाने से मना करेगा?

अगर आप अपने बच्चे को कोई नई खाने की चीज़ नहीं खिला पा रहे हैं तो आप ये टिप्स अपनाकर अपने बच्चे को इसके लिए राज़ी कर सकते हैं:

जब बच्चा कुछ नया खाना न चाहे तो उसे कैसे खिलाएं

1. अलग-अलग खाने की चीज़ो को मिक्स करके खिलाएं

जब भी आप बच्चे को कोई नई खाने की चीज़ देना चाहें तो हमेशा उसे ऐसे खाने के साथ दें जो आपका बच्चा पहले से खाता हो या उसकी पसंद का हो। आप दोनों चीज़ों को मिलाकर भी उसे खिला सकते हैं। जैसे अगर आपका साल भर का बच्चा पीच (आड़ू) खाने से मना कर रहा हो तो उसे केले के साथ मिक्स करके खिलाने की कोशिश करें। इस तरह आप बिना किसी परेशानी के उसे एक नया फल खिला सकते हैं।

2. थोड़ा सब्र रखिये

बच्चों को खाना खिलाते समय सब्र से काम लेना बहुत ज़रूरी होता है। अगर आपका बच्चा कुछ नया नहीं खा रहा है तो थोड़ा रुकना चाहिए. आपको इंतज़ार करना चाहिए कि वह अपने-आप मुंह खोले। जब वह ऐसा करे तो उसके मुंह में चम्मच डालकर आराम से खिलाना चाहिए।

3. खाने की एक्टिविटी को मज़ेदार बनाएं

बच्चों के लिए खाने की एक्टिविटी को मज़ेदार और उनकी पसंद का बनाना चाहिए। उनको किसी दबाव में या ज़बरदस्ती कोई नई चीज़ नहीं खिलानी चाहिए, नहीं तो वे उसे खाने से ज़रूर मना कर देंगे।

4. अपने बच्चे के इशारों को समझें

कोई भी नई चीज़ खिलाते समय अपने बच्चे के इशारों और उसकी हरकतों को समझने की कोशिश करनी चाहिए। उसे ज़रूरत से ज्यादा ना खिलाएं। अगर वह खाना बंद कर दे (चाहे उसने थोड़ा सा ही खाया हो) तो रुक जाना चाहिए।

5. अपने बच्चे के लिए आदर्श बनें

माता-पिता हमेशा अपने बच्चे के आदर्श (रोल मॉडल) होते हैं। आप जो कुछ भी करते हैं, आपका बच्चा उसे दोहराने की कोशिश करता है इसलिए, अगर आप किसी चीज़ को खाने से मना करेंगे और मुंह बनाएंगे, तो आपका बच्चा भी ऐसा करेगा। ऐसा ना हो, इसलिए आपको जो भी खाना दिया जाए उसे ही खाने की आदत डालें।

बच्चे की डाइट में नई चीज़ें शामिल करना एक लंबे समय तक चलने वाला और ज़रूरी कदम है। आपको यह ध्यान रखना होगा कि बच्चे के आहार में नई चीज़ें शामिल करने के साथ उसे इन्हें खाने की आदत भी पड़े, चाहे इसमें कितना भी समय लगे। बस जल्दबाज़ी न करें, सब्र रखें और अपने बच्चे को नया खाना अपनाने के लिए पूरा समय दें। उसे प्यार से इस बदलाव को समझने और इसके साथ ढलने का समय दें, और अपने बच्चे को स्वस्थ रूप से बढ़ते हुए देखने का आनंद लें।