Are probiotics and prebiotics essential for your child?

क्या प्रोबायोटिक और प्रीबायोटिक आपके बच्चे के लिए ज़रूरी हैं?

जब आपके बच्चे के सम्पूर्ण और सेहतमंद विकास की बात आती है तो पेट का स्वास्थ्य अहम भूमिका निभाता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि गैस, डायरिया, कब्ज या बैक्टीरिया के संक्रमण जैसी समस्याएं उसे कमज़ोर और सुस्त बनाने के साथ साथ असहज भी बना सकती हैं। और ऐसे में प्रोबायोटिक्स बेहद फ़ायदेमंद साबित हो सकते हैं। जबकि प्रोबायोटिक्स आजकल लोकप्रिय हो गए हैं, हर कोई इनके फ़ायदों के बारे में पूरी तरह नहीं जानता है। प्रोबायोटिक्स के बारे में पता होने पर भी, सभी माँएं प्रीबायोटिक्स के महत्व को नहीं समझती हैं। इस लेख में हम आपके सभी सवालों का जवाब देंगे ताकि आप अपने बच्चे के बेहतर स्वास्थ्य के लिए ज़रूरी निर्णय ले सकें।

प्रीबायोटिक्स क्या होते हैं?

प्रीबायोटिक्स न पचने वाले खाद्य पदार्थ हैं जो आंत में अनुकूल बैक्टीरिया के विकास को बढ़ावा देते हैं। वे अच्छे बैक्टीरिया के लिए और सूक्ष्मजीवों के जीवित रहने और सिस्टम में पनपने के लिए बेहतरीन वातावरण बनाते हैं। बच्चों के लिए प्रीबायोटिक्स के कुछ अच्छे स्रोत नीचे दिये गए हैं:

  • फ़ाइबर युक्त सब्ज़ियाँ।

  • फ़र्मेंटेड खाद्य पदार्थ जैसे दही।

  • लहसुन अनुकूल बैक्टीरिया के विकास को बढ़ावा देता है और हानिकारक बैक्टीरिया को कम करता है।

  • प्याज़ प्रीबायोटिक्स से भरपूर है, जो पाचन सही करते हैं और अनुकूल बैक्टीरिया के विकास को बढ़ावा देते हैं। इनमें एंटीऑक्सीडेंट गुण भी होते हैं।

  • पत्तागोभी में विटामिन बी और सी होता है और यह प्रीबायोटिक्स से भरपूर होता है।

  • हरी प्याज़ फ़ाइबर से भरपूर होते हैं।

  • दालें प्रीबायोटिक्स से भरपूर हैं और पाचन को बेहतर बनती हैं।

  • किडनी बीन्स और सोयाबीन फ़ाइबर, प्रोटीन और पोटेशियम से भरपूर होते हैं।

  • चीकू प्रीबायोटिक्स, आयरन और विटामिन बी से भरपूर होता है।

  • केले फ़ाइबर से भरपूर होते हैं और पाचन को सही करते हैं। वे सूजन को भी कम करते हैं।

  • तरबूज़ फ़ाइबर से भरा होता है और हाइड्रेशन के लिए अच्छा होता है। यह अनुकूल बैक्टीरिया का एक अच्छा खाद्य स्रोत है।

  • चोकर युक्त अनाज जैसे चोकर, जौ और जई प्रीबायोटिक्स के लिए बढ़िया विकल्प हैं।

  • नट्स और सीड्स जैसे बादाम, पिस्ता नट्स और फ्लैक्ससीड्स को भी डाइट में शामिल किया जा सकता है।

  • बच्चों के शरीर से बिना पचे प्रीबायोटिक निकल जाते हैं। बच्चों के आहार में प्रीबायोटिक्स को नट्स और सीड्स, या साबुत अनाज वाली ब्रेड, या छिलके वाले फल, या सूप और फलियों वाला सलाद शामिल सकते हैं।

प्रोबायोटिक्स क्या होते हैं?


प्रोबायोटिक्स ऐसे खाद्य पदार्थ या सप्लीमेंट होते हैं जिनमें जीवित सूक्ष्मजीव होते हैं जो पाचन तंत्र में अनुकूल बैक्टीरिया को बढ़ावा देने के लिए सेवन किए जाते हैं। उदाहरण के लिए, दही लैक्टोबैसिलस नामक एक अनुकूल जीवाणु में समृद्ध है, जो आंत के वनस्पतियों को मज़बूत करने में मदद करता है। प्रोबायोटिक्स के अन्य स्रोत बीट, गोभी और सोया हैं। प्रोबायोटिक्स को सप्लीमेंट के रूप में भी लिया जा सकता है, कैप्सूल, टैबलेट, पाउडर, तरल या तरल बूंदों के रूप में।

बच्चे के स्वास्थ्य के लिए प्रीबायोटिक और प्रोबायोटिक की ज़रूरत

पेट में लगभग 300 से 500 प्रकार के जीवाणु होते हैं। वायरस और फंगस जैसे पैथोजन के साथ, वे खुद एक ब्रह्मांड का निर्माण करते हैं, जिसे माइक्रोबायोटा या माइक्रोबायोम कहा जाता है। प्रत्येक माइक्रोबायोटा हर बच्चे के लिए अलग होता है और यह माता के गर्भ में और जन्म के बाद पनपता है। यह बच्चे के आहार और जीवन शैली पर भी आधारित है।

आंत में बैक्टीरिया एक बच्चे के सम्पूर्ण विकास को प्रभावित कर सकते हैं। वे मेटाबोलिज़्म, मनोदशा और बच्चे की प्रतिरक्षा प्रणाली को भी प्रभावित कर सकते हैं। अनहेल्दी माइक्रोबायोम कई संक्रमण और बीमारियों का कारण बन सकता है। और प्रमुख विकास चरणों के दौरान संक्रमण होने से विकास प्रभावित हो सकता है।

पेट के बैक्टीरिया मोटापे, मधुमेह, हृदय की समस्याओं, अवसाद और पेट के कैंसर की संभावना से भी जुड़े हैं। एक निश्चित प्रकार के बैक्टीरिया का बहुत अधिक या बहुत कम होना बीमारी का कारण बन सकता है। कुछ बैक्टीरिया जोखिम को कम करने के लिए जाने जाते हैं, जबकि कुछ इसे बढ़ाते हैं। आंत के बैक्टीरिया आपके बच्चे को खाने की चीज़ से मिलने वाली कैलोरी और अवशोषित होने वाले पोषक तत्वों को भी प्रभावित कर सकते हैं

  • प्रोबायोटिक्स बच्चों के लिए फ़ायदेमंद हैं क्योंकि वे माइक्रोबायोम को स्वस्थ रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

  • वे स्वाभाविक रूप से स्वस्थ बैक्टीरिया के विकास और प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देते हैं।

  • प्रोबायोटिक्स और प्रीबायोटिक्स दोनों में वायरल डायरिया के इलाज और एंटीबायोटिक दवाओं के उपयोग से होने वाले दस्त को रोकने की क्षमता है।

  • जो बच्चे प्रोबायोटिक खाद्य पदार्थों का सेवन शुरू करते हैं उन्हें डायरिया का ख़तरा ज़्यादा होता है।

  • जब रोटावायरस से संबंधित दस्त का इलाज करने की बात आती है तो प्रोबायोटिक्स के बहुत फ़ायदेमंद होते हैं। वे बच्चों में संक्रमण के ख़तरे को आधे से कम कर देते हैं।

  • प्रीबायोटिक्स एटोपिक एक्जिमा को भी कम कर सकते हैं।

कुछ अध्ययनों से पता चलता है कि प्रोबायोटिक्स मानसिक स्वास्थ्य में भी सुधार कर सकते हैं।

असल में प्रोबायोटिक्स और प्रीबायोटिक्स आपके बच्चे के पाचन स्वास्थ्य और कई अलग-अलग तरीकों से सम्पूर्ण विकास के लिए फ़ायदेमंद हो सकते हैं। हालांकि, ये उन बच्चों को नहीं दिया जाना चाहिए जो एक गंभीर बीमारी से पीड़ित हैं या जिनकी प्रतिरक्षा प्रणाली कमज़ोर है। और आपको हमेशा अपने बच्चे के आहार में एक प्रोबायोटिक या प्रीबायोटिक शुरू करने से पहले एक बाल रोग विशेषज्ञ से परामर्श करना चाहिए।

Ready to Follow Healthy Life

You can browse our entire catalog of healthy recipes curated by a registered
dietician and professional food team.

Sign up